top of page
Search
  • deepak9451360382

Kanpur#vastu delhi ncr

Updated: Dec 25, 2023

*कृपया ध्यान दें होलाष्टक मध्यप्रदेश में नही होता है*

*होलाष्टक क्या हैं?*

*किस क्षेत्र में मानते है*

*होलाष्टक का प्रभाव वाला क्षेत्र*

विपाशैरावतीतीरे शुतुद्रयाश्च त्रिपुष्करे।

विवाहादिशुभे नेष्टं होलिकाप्राग्दिनाष्टकम्।।

(मुहुर्तचिन्तामणि श्लोक सं. 40)

ऐरावत्यां विपाशायां शतद्रौ पुष्करत्रये।

होलिका प्राग्दिनान्यष्टौ विवाहादौ शुभे त्यजेत्।

मुहुर्तगणपति श्लोक सं. 204)

विपाशा (व्यास), इरावती (रावी), शुतुद्री (सतलज) नदियों के निकटवर्ती दोनों ओर स्थित नगर, ग्राम, क्षेत्र में तथा त्रिपुष्कर (पुष्कर) क्षेत्र में होलाष्टक दोष फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा (होलिका दहन) तिथि के पहले के आठ दिन में विवाह, यज्ञोपवीत आदि शुभ कार्य वर्जित हैं। इस प्रकार लगभग सम्पूर्ण पंजाब प्रान्त में हिमांचल प्रदेश का कुछ भू-भाग तथा राजस्थान में अजमेर (पुष्कर) के समीपवर्ती आसपास के स्थानों (सम्पूर्ण राजस्थान नहीं) में ही विशेष सावधानी के लिए होलाष्टक दोष को मानना शास्त्र सम्मत है।

देश के अन्य शेष भू-भागों में होलाष्टक दोष विचार का नियम लागू नहीं करना चाहिए, ऐसा शास्त्र सम्मत निर्णय है।

2 views0 comments

Recent Posts

See All

वास्तु शास्त्र

Every businessman wants to explore the enormous opportunities to nurture and expand the business. Business is the wheel that keeps an economy going. It fulfills the demand and supply phenomenon. A wel

Comments


Post: Blog2_Post
bottom of page