Search
  • deepak9451360382

Vastu

भगवान शिव के हाथों में सृष्टि का संचालन

हिंदू धर्म में चातुर्मास या चौमासा का विशेष महत्व होता है। चातुर्मास की शुरुआत हिंदू कैलेंडर के अनुसार आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी से होती है जो कि कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तक होती है। चातुर्मास की शुरुआत रविवार 10 जुलाई 2022 से हो गई है। चातुर्मास के दौरान भगवान विष्णु पूरे 4 महीने के लिए सृष्टि का संचालन भगवान शिव के हाथों में सौंपकर योग निद्रा में चले जाते हैं ।

ये चार महीने सावन, भाद्रपद, आश्विन और कार्तिक के होते हैं। इन महीनों में चार देवी-देवताओं की विशेष कृपा मिलती है। इस बार चतुर्मासा 10 जुलाई से शुरू हो चुके हैं जो कि 4 नबंवर तक रहेगा। इस अवधि में विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश और तिलक जैसे कई कार्यों पर पाबंदी लग जाती है। इन शुभ कार्यों के लिए इस समय पंचांग में कोई शुभ मुहूर्त नहीं होते हैं। इसके अलावा भी चातुर्मास के दौरान कई तरह के कार्यों को करना वर्जित माना जाता है। चातुर्मास में आने वाले महीनों का धार्मिक रूप से महत्व होता है।

श्रावण मास

चातुर्मास का पहला महीना सावन होता है और इस महीने में देवाधिदेव महादेव की कृपा रहती है। अगर भक्त सावन के महीने में शिव जी की आराधना और उपासना सच्चे मन से करते हैं तो उनकी मनोकामना भगवान शिव अवश्य पूरी करते हैं। ये भगवान शिव का प्रिय महीना है। इस महीने में भगवान शिव की विधि-विधान के साथ पूजा करने से वैवाहिक जीवन में आ रही समस्याएं दूर हो सकती हैं । सावन का महीना 14 जुलाई से 12 अगस्त तक रहेगा।

भाद्रपद माह

भाद्रपद में श्रीकृष्ण जी की विशेष कृपा रहती है। इस महीने में श्रीकृष्ण का प्राकट्य हुआ था। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार संतान प्राप्ति, संतान की उन्नति, जीवन में प्रेम, आकर्षण और सुख शांति के लिए यह महीना शुभ है। इस महीने में भगवान शिव की उपासना करनी चाहिए। इस माह में श्रीमद्भागवत का पाठ करना अत्यंत शुभ परिणाम देता है। भाद्रपद का महीना 13 अगस्त से 10 सितंबर तक चलेगा।

आश्विन माह

इस माह को शक्ति प्राप्ति का महीना माना जाता है। इस महीने में देवी की उपसाना की जाती है। आश्विन के महीने में ही पितरों की भी पूजा होती है। साथ ही मां दुर्गा की नवरात्रि भी आती है। इस माह में दुर्गा सप्तशती का पाठ अवश्य करना चाहिए। इस बार आश्विन का महीना 11 सितंबर से 9 अक्टूबर तक रहेगा।

कार्तिक मास

कार्तिक मास का महीना हिंदू धर्म में अत्यधिक पवित्र महीना है। ये चातुर्मास का अंतिम मास होता है। इस माह से देव तत्व मजबूत होते हैं। इस दौरान धन और धर्म दोनों से जुड़े प्रयोग किए जाते हैं। इस महीने में तुलसी रोपण और विवाह सर्वोत्तम होता है। इस महीने में दीपदान और दान करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। इस बार कार्तिक का महीना 10 अक्टूबर से 08 नवंबर तक रहेगा।

अगर आप इन महीनों में विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना करते हैं तो आपके जीवन में सुख-समृद्धि आएगी और पारिवारिक समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है

Pt. Deepak Pandey

Astrologer & Vastushastra

www. Vaastuinkanpur. Com

{{count, number}} view{{count, number}} comment

Recent Posts

See All

आषाढ़ में ही क्‍यों पड़ती है गुरु पूर्णिमा? गुरु के ब‍िना न तो जीवन की सार्थकता है और न ही ज्ञान प्राप्ति संभव है। ज‍िस तरह हमारी प्रथम गुरु मां हमें जीवन देती हैं और सांसर‍िक मूल्‍यों से हमारा पर‍िचय

आस्था और विज्ञान का गजब मेल। चतुर्मास में वर्जित चीजों का साइंस। भारत में चार महीने माना जाता है देवता सोते हैं। इसे चतुर्मास के नाम से जाना जाता है और इस दौरान कई चीजें वर्जित होती हैं। बारिश के मौसम

साधना और मनोकामना को गुप्त रखकर करें शक्ति की आराधना आषाढ़ माह की गुप्त नवरात्र 30 जून से तंत्र सिद्धि के लिए होगी शक्ति के नौ स्वरूप और दस महाविद्याओं की उपासना। तंत्र सिद्धि के लिए शक्ति के नौ स्वरू