top of page
Search
  • deepak9451360382

मास्टर बेडरूम दक्षिण पश्चिम कॉर्नर में ही

मास्टर बेडरूम दक्षिण पश्चिम कॉर्नर में ही होना चाहिए

भारतीय जनमानस की मन में याद धारणा है की मास्टर बेडरूम हमेशा दक्षिण पश्चिम को में ही होना चाहिए और यदि मास्टर बेडरूम दक्षिण पश्चिम कौन में नहीं है तो इसे महत्वपूर्ण वास्तु दोष माना जाता है इस धारणा को सही साबित करने के लिए हमारे कुछ ज्योतिषी और वास्तु शास्त्री ने वास्तविक वीडियो में रेखाचित्र बनाकर के लोगों को समझने की कोशिश की है कि ऊर्जा ईशान कोणों से होकर नृत्य को की ओर जाती है और पलट करके पुनः ईशान कोण की ओर ही आती है और जब यह ऊर्जा प्रवाहित हो तब तक इसकी गति धीमी हो जाती है इससे आपके घर के मुखिया जो सामान्य बुजुर्ग होते हैं उन्हें सांस लेने में आसानी होती है वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का दक्षिण पश्चिम भारी होना चाहिए और सिर्फ इसी कारण से हमारे वास्तविक वास्तु के सिद्धांत के आधार पर कुछ लोग कमर जो भी घर का गार्जियन है उनका कमरा दक्षिण पश्चिम में दे दिया जाता है इसके पीछे वास्तविक अन्य जोशी मनुष्यों का एक तर्क है कि घर का मुखिया उम्र में अधिक होने के कारण भारी होता है और नृत्य को में इनका कैमरा होने के कारण नृत्य को अपने आप ही भारी हो जाता है जबकि वास्तु शास्त्र के प्रमाणित प्राचीन ग्रंथो में जो जानकारियां दी गई है उसके अनुसार संकट दक्षिण दिशा में होना चाहिए और नृत्य को भारी समान मेंटेनेंस औजार रखती और सीडीओ के लिए निर्धारित किया गया है अर्थात दक्षिण पश्चिम को में बेडरूम होना इतना आवश्यक नहीं है कि उसको बहुत बड़ा मुद्दा बनाया जाए.

पंडित दीपक पांडे ने बताया कि

वास्तु शास्त्र तो यहां है कि दक्षिण दिशा में सर और उत्तर दिशा में पैर रखकर के सुना स्वास्थ्य के लिए उत्तम माना गया है हमारी प्राचीन ग्रंथो के अनुसार वास्तु शास्त्र निर्माण की योजना में कुछ चार्ट बनाए जाते हैं उसे पर देखेंगे कि घर के मध्य भी आंगन होता था चारों ओर अलग-अलग कमरे और उनका उपयोग किस प्रकार करना है उसकी जानकारी शास्त्रों में दी गई है उसमें संकट केवल दक्षिण दिशा में ही दर्शाया गया है जो कि व्यावहारिक रूप से सही भी है आदमी आंगन से होता हुआ उत्तर दिशा से दक्षिण दिशा में स्थित अपने बेडरूम में जाएगा जहां सामने पलंग होगा और वहां पर दक्षिण दिशा में सर रख करके सो सकेगा अर्थात महत्वपूर्ण बात यह है कि दक्षिण दिशा में सर और उत्तर दिशा में पर रख करके सोना वास्तु की वास्तु शास्त्र के मुताबिक होता है जिस तरह आज बढ़ती हुई आबादी के कारण घरों के आकार छोटे होते जा रहे हैं ऐसे में दक्षिण दिशा में एक बेडरूम बनाना मुश्किल हो जाता है ऐसी स्थिति में आप घर की किसी भी कोने में सी तो अच्छे स्वास्थ्य के लिए आप अवश्य कोशिश करें कि आपका से रहना सोते समय दक्षिण दिशा की ओर होना चाहिए और पर उत्तर दिशा की ओर इसीलिए मास्टर बेडरूम को हमेशा दक्षिण पश्चिम को में होना जरूरी कहा गया क्योंकि वास्तु शास्त्र के ऐसे किसी भी प्रमाणित ग्रंथ में ऐसी कोई बात नहीं लिखी है कि वहीं पर ही होना चाहिए जहां पर भी बात होती है बात यह होती है कि लेते समय सी रहना दक्षिण की ओर हो और पर उत्तर की हो मैं कानपुर से पंडित दीपक पांडे ज्योतिषी व वास्तु शास्त्र विशेषज्ञ

९३०५३६०३८२

1 view0 comments

Recent Posts

See All

वास्तु शास्त्र

Every businessman wants to explore the enormous opportunities to nurture and expand the business. Business is the wheel that keeps an economy going. It fulfills the demand and supply phenomenon. A wel

Comments


Post: Blog2_Post
bottom of page